Print Friendly, PDF & Email

[मिशन 2022| सिक्योर- 2022] फुल लेंथ सिक्योर रिवीजन टेस्ट: 17 मार्च 2022

How to Self-evaluate your answer? 

MISSION – 2022: YEARLONG TIMETABLE

 

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 150 शब्दों में दीजिए:


सामान्य अध्ययनI


 

विषय: सामाजिक सशक्तिकरण।

 

  1. शिक्षा में निम्नस्तरीय अधिगम के परिणाम गरीबी एवं विभिन्न अन्य सामाजिक कारकों में निहित हैं, जो अवसरों में बाधा डालते हैं एवं शिक्षा की प्रगति में बाधा डालते हैं। विश्लेषण कीजिए। (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: मध्यम

सन्दर्भ:  Live Mint

निर्देशक शब्द:

विश्लेषण कीजिए- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय / मामले के बहुआयामी सन्दर्भों जैसे क्या, क्यों, कैसे आदि पर ध्यान देते हुए उत्तर लेखन कीजिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
सामाजिक कारक एवं शिक्षा की प्रगति के मध्य सम्बन्धों का उल्लेख करते हुए उत्तर प्रारंभ कीजिए।

विषय वस्तु:
गरीबी शिक्षा को कैसे सीमित कर रही है? समझाइए।
शिक्षा को सीमित करने वाले सामाजिक कारकों का उल्लेख कीजिए।

निष्कर्ष: 
उपर्युक्त सामाजिक बाधाओं को दूर करने के लिए एक आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 

 

 

 

 

विषय: भौगोलिक विशेषताएँ और उनके स्थान- अति महत्त्वपूर्ण भौगोलिक विशेषताओं (जल-स्रोत और हिमावरण सहित) और वनस्पति एवं प्राणिजगत में परिवर्तन और इस प्रकार के परिवर्तनों के प्रभाव।

 

  1. भारतीय मानसून में मौसमी परिवर्तनों को ध्यान में रखते हुए परीक्षण कीजिए कि जलवायु परिवर्तन उपमहाद्वीप में मानसून के पैटर्न को कैसे प्रभावित कर रहा है। इन प्रभावों को कम करने के लिए किन कदमों की आवश्यकता है? (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: मध्यम

सन्दर्भ: Down to Earth

निर्देशक शब्द:

परीक्षण कीजिए- ऐसे प्रश्नों का उत्तर देते समय उस कथन अथवा विषय के पक्ष और विपक्ष दोनों का परीक्षण करते हुए सारगर्भित उत्तर लिखना चाहिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
भारतीय मानसून एवं इसके महत्व को संक्षेप में प्रस्तुत करते हुए उत्तर प्रारंभ कीजिए।

विषय वस्तु:
मानसून की क्रियाविधि एवं ऋतुओं के अनुसार भारतीय मानसून में उतार-चढ़ाव के कारणों का संक्षेप में उल्लेख कीजिए।
मानसूनी वर्षा पर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का उल्लेख कीजिए।
इसके पैटर्न कैसे परिवर्तित हो रहे हैं? समझाइए एवं इसके प्रभावों का उल्लेख कीजिए।
मानसून पर जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के लिए आवश्यक दीर्घकालिक एवं अल्पकालिक उपायों का वर्णन कीजिए।

निष्कर्ष:
आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 


सामान्यअध्ययनII


 

 

विषय: भारत एवं उसके पड़ोसी देश- संबंध।

 

  1. भारत एवं श्रीलंका के मध्य दशकों से चल रहे मछली पकड़ने के मुद्दे को हल करने के लिए एक स्थायी एवं टिकाऊ समाधान की आवश्यकता है जो दोनों पक्षों को पारस्परिक रूप से स्वीकार्य हो। टिप्पणी कीजिए। (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: मध्यम

सन्दर्भ: New Indian Express

निर्देशक शब्द:

टिप्पणी कीजिए- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय पर अपने ज्ञान और समझ को बताते हुए एक समग्र राय विकसित करनी चाहिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
भारत एवं श्रीलंका के मध्य पाक की खाड़ी संघर्ष के सन्दर्भ में संक्षेप में चर्चा करते हुए उत्तर की शुरुआत कीजिए।

विषय वस्तु:
संघर्ष का संदर्भ, इसके कारण एवं विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालिए।
इस मुद्दे का भारत-लंका संबंधों पर पड़ने वाले प्रभावों पर प्रकाश डालिए।
इस मुद्दे को हल करने के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों का उल्लेख कीजिए, जो इस मुद्दे को हल करने में उपयोगी नहीं रहे हैं।
ऐसे कदमों का सुझाव दीजिए, जिनसे इस मुद्दे को शांतिपूर्ण एवं सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझाया जा सके।

निष्कर्ष:
आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 


सामान्यअध्ययनIII


 

विषय: समावेशी विकास एवं इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

 

  1. आयकर के लिए फेसलेस ई-आकलन प्रणाली क्या है? उच्च गुणवत्ता, निष्पक्ष एवं समयबद्ध मूल्यांकन आदेश प्राप्त करने में इसके प्रदर्शन का मूल्यांकन कीजिए। (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: मध्यम

सन्दर्भ: Insights on India

निर्देशक शब्द:

मूल्यांकन कीजिए- ऐसे प्रश्नों में अभ्यर्थी से अपेक्षा की जाती है की वह कथन अथवा विषय के महत्व को रेखांकित करते हुए उसकी समग्र उपयोगिता बताये।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
आयकर के लिए फेसलेस ई-आकलन प्रणाली एवं उसके लक्ष्य तथा उद्देश्यों के बारे में चर्चा  करते हुए उत्तर की शुरुआत कीजिए।

विषय वस्तु:
आयकर के लिए फेसलेस ई-आकलन प्रणाली के लाभों का उल्लेख कीजिए।
फेसलेस ई-आकलन प्रणाली की सीमाओं के बारे में लिखिए।

निष्कर्ष:
उपर्युक्त सीमाओं के समाधान के लिए आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 

 

 

 

विषय: समावेशी विकास एवं इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

 

  1. हाल के दिनों में भारत में प्रारम्भ किए गए प्रमुख कर सुधारों को सूचीबद्ध कीजिए। क्या आपको लगता है कि भारत को प्रत्यक्ष कर संहिता की ओर बढ़ना चाहिए? परीक्षण कीजिए। (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: मध्यम

सन्दर्भ: Insights on India

निर्देशक शब्द:

परीक्षण कीजिए- ऐसे प्रश्नों का उत्तर देते समय उस कथन अथवा विषय के पक्ष और विपक्ष दोनों का परीक्षण करते हुए सारगर्भित उत्तर लिखना चाहिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
कर सुधारों के लक्ष्य एवं उद्देश्यों पर चर्चा करते हुए उत्तर की शुरुआत कीजिए।

विषय वस्तु:
हाल के दिनों में प्रारम्भ किए गए प्रमुख कर सुधारों की संक्षेप में व्याख्या कीजिए।
प्रत्यक्ष कर संहिता की अवधारणा एवं इसके घटकों की व्याख्या कीजिए।
यह वर्तमान प्रणाली से कैसे बेहतर है? समझाइए एवं इसके संबंध में अनिश्चितताओं तथा मुद्दों के बारे में भी लिखिए।

निष्कर्ष: 
प्रत्यक्ष कर संहिता के संबंध में एक संतुलित राय प्रस्तुत करते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 

 

 

 

विषय: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां; प्रौद्योगिकी का स्वदेशीकरण एवं नवीन प्रौद्योगिकी का विकास।

 

  1. 5G प्रौद्योगिकी भारत की डिजिटल क्रांति में एक नए युग की शुरुआत करने के लिए तैयार है लेकिन भारत में इसके बड़े पैमाने पर कार्यान्वयन के संबंध में विशेष रूप से स्पेक्ट्रम के आवंटन के संबंध में चुनौतियों का पारदर्शी तरीके से समाधान किया जाना चाहिए। चर्चा कीजिए। (250 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: सरल

सन्दर्भ: Business Standard

निर्देशक शब्द:

चर्चा कीजिए- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय / मामले के विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए तथ्यों के साथ उत्तर लिखें।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
5G नेटवर्क एवं इसके आवृत्ति परिसर के विवरण पर प्रकाश डालते हुए उत्तर की शुरुआत कीजिए।

विषय वस्तु:
5G प्रौद्योगिकी के विभिन्न संभावित लाभों का उल्लेख कीजिए।
5G को क्रियान्वित करने सम्बन्धी चुनौतियों पर चर्चा कीजिए।
स्पेक्ट्रम आवंटन के मुद्दे एवं इन्हें पारदर्शी तरीके से कैसे सुलझाया जा सकता है, इसके बारे में लिखिए।

निष्कर्ष:
आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 

 


सामान्यअध्ययनIV


 

विषय: नैतिक एवं राजनीतिक दृष्टिकोण।

 

  1. लोकप्रिय नैतिकता से आप क्या समझते हैं? यह संवैधानिक अधिकारों को कैसे प्रभावित करती है? समझाइए। (150 शब्द)

 

प्रश्न का स्तर: कठिन

निर्देशक शब्द:

समझाइए- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय प्रश्न से संबंधित सूचना अथवा जानकारी को सरल भाषा में प्रस्तुत कीजिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:
लोकप्रिय नैतिकता की अवधारणा पर विस्तार से चर्चा करते हुए उत्तर प्रारम्भ कीजिए।

विषय वस्तु:
इससे सम्बंधित पहलुओं का उल्लेख कीजिए, जैसे- लोकप्रिय नैतिकता के दायरे में क्या स्वीकार किया जाता है, क्या यह स्थिर है एवं सांस्कृतिक धारणाओं और सिद्धांतों पर आधारित है। उदाहरण भी प्रस्तुत कीजिए।
संवैधानिक अधिकारों पर लोकप्रिय नैतिकता के प्रभाव – सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनों को उदाहरणों के साथ प्रमाणित कीजिए।

निष्कर्ष:
निष्कर्ष निकालिए कि लोकप्रिय नैतिकता संवैधानिक अधिकारों के अनुरूप होनी चाहिए।