Print Friendly, PDF & Email

[इनसाइट्स सिक्योर STHIR – 2021] दैनिक सिविल सेवा मुख्य परीक्षा उत्तर लेखन अभ्यास: 11 दिसंबर 2020

 

How to Follow Secure Initiative?

How to Self-evaluate your answer? 

INSIGHTS NEW SECURE – 2020: YEARLONG TIMETABLE

 


सामान्य अध्ययन – 1


 

विषय: संरचना, वायुमंडल का संगठन, मौसम एवं जलवायु, ऊष्मा एवं तापमान, आतपन, ऊष्मा बजट, तापमान का वितरण, तापमान व्युत्क्रमण।

1. पृथ्वी के ताप संतुलन को बनाए रखने में सहायक विभिन्न प्रक्रियाओं की व्याख्या कीजिए। (250 शब्द)

सन्दर्भ: विश्व का भौतिक भूगोल: कक्षा XI NCERT

निर्देशक शब्द:

व्याख्या कीजिये- प्रश्न में पूछी गई जानकारी को सरल भाषा में व्यक्त कीजिये।

उत्तर की संरचना:

परिचय:

सर्वप्रथम ऊष्मा बजट को परिभाषित कीजिए।

विषय वस्तु:

ऊष्मा बजट की अवधारणा को समझाइए।

उन विभिन्न प्रक्रियाओं की व्याख्या कीजिए, जो पृथ्वी के ताप संतुलन को बनाए रखने में सहायता करती हैं।

उपयुक्त आरेखों की सहायता से उपर्युक्त को स्पर्श कीजिए।

निष्कर्ष:

निष्कर्ष निकालिए कि ऊष्मा के स्थानांतरण के बावजूद पृथ्वी न तो गर्म होती है और न ही ठंडी रहती है।

 

विषय: संरचना, वायुमंडल का संगठन, मौसम एवं जलवायु, ऊष्मा एवं तापमान, आतपन, ऊष्मा बजट, तापमान का वितरण, तापमान व्युत्क्रमण।

 2. पृथ्वी पर ऊष्मा का असमान वितरण, मौसम एवं जलवायु की भिन्नता का कारण कैसे बनता है? स्पष्ट कीजिए। (250 शब्द)

सन्दर्भ: कक्षा 11 भूगोल NCERT

 निर्देशक शब्द:

स्पष्ट कीजिये- ऐसे प्रश्नों में अभ्यर्थी से अपेक्षा की जाती है कि वह पूछे गए प्रश्न से संबंधित जानकारियों को सरल भाषा में व्यक्त कर दे।

उत्तर की संरचना:

 परिचय:

मौसम एवं जलवायु को परिभाषित करते हुए उत्तर प्रारम्भ कीजिए।

विषय वस्तु:

वैश्विक औसत तापमान का बढ़ना मौसम की प्रकृति में व्यापक बदलाव से सम्बंधित है। वैज्ञानिक अध्ययनों से संकेत मिलता है कि चरम मौसम की घटनाओं जैसे कि ऊष्मा लहरें और तूफान मानव-प्रेरित जलवायु परिवर्तन के साथ अधिक बार या अधिक तीव्र होने की संभावना है। उत्तर में तापमान, वर्षा, तूफान, बाढ़ और सूखे में परिवर्तन पर ध्यान देना चाहिए जो पृथ्वी पर ऊष्मा के असमान वितरण के परिणामस्वरूप उत्पन्न होते हैं और मौसम और जलवायु की भिन्नता का कारण निर्मित होते हैं।

समझाइए कि पृथ्वी पर ऊष्मा का असमान वितरण, मौसम एवं जलवायु को कैसे प्रभावित करता है?

निष्कर्ष:

हाल ही में घटित मानवजनित गतिविधियों और परिणामी जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के साथ उनके समाधान के उपाय बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 


सामान्य अध्ययन – 2


 

विषय: केन्द्र एवं राज्यों द्वारा जनसंख्या के अति संवेदनशील वर्गों के लिये कल्याणकारी योजनाएँ और इन योजनाओं का कार्य-निष्पादन; इन अति संवेदनशील वर्गों की रक्षा एवं बेहतरी के लिये गठित तंत्र, विधि, संस्थान एवं निकाय।

3. बच्चों के अवैध व्यापार का खतरा अभी भी चिंता का प्रमुख विषय है और ऐसे अपराधों को न केवल रोकने की आवश्यकता है बल्कि यह भी सुनिश्चित करना आवश्यक है कि राहत एवं पुनर्वास की प्रक्रिया सुचारू रूप से हो। टिप्पणी कीजिए। (250 शब्द)

सन्दर्भ: The Hindu 

 निर्देशक शब्द:

 टिप्पणी कीजिये- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय पर अपने ज्ञान और समझ को बताते हुए एक समग्र राय विकसित करनी चाहिए।

उत्तर की संरचना:

परिचय:

बच्चों के अवैध व्यापार की निराशाजनक तस्वीर को उचित तथ्यों के साथ प्रस्तुत करते हुए उत्तर प्रारम्भ कीजिए। भारत में बच्चों के अवैध व्यापार की मात्रा बहुत अधिक है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार हर आठ मिनट में एक बच्चा गायब होता है।

विषय वस्तु:   

उत्तर में निम्नलिखित पहलुओं पर चर्चा कीजिए –

सम्बंधित कारणों पर चर्चा कीजिए- अनेक पृथक-पृथक कारण हैं, जो बच्चों के अवैध व्यापार को जन्म देते हैं। प्राथमिक कारण गरीबी, कमजोर कानून प्रवर्तन और अच्छी गुणवत्ता वाली सार्वजनिक शिक्षा की कमी है। बच्चों का लाभ उठाने वाले तस्कर भारत के किसी अन्य क्षेत्र से हो सकते हैं अथवा बच्चे को व्यक्तिगत रूप से जानने वाले भी हो सकते हैं। बच्चों के अवैध व्यापार के बाद घर लौटने वाले बच्चे अक्सर अपने समुदायों में शर्म का सामना करते हैं, बजाय इसके कि उनका घर पर स्वागत हो।

इसके विभिन्न रूपों की व्याख्या कीजिए।

इस समस्या के समाधान के लिए क्या दृष्टिकोण अपनाया जाना चाहिए? चर्चा कीजिए।

राहत और पुनर्वास प्रक्रिया के महत्व पर प्रकाश डालिए। लेख से संकेत लीजिए एवं इसके समाधानों पर चर्चा कीजिए।

निष्कर्ष:

इस दिशा में सरकार द्वारा किये गए प्रयासों एवं आगे की राह को बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

  

विषय: स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधनों से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित विषय।

4. भारत अपने बिलियन प्लस के सपने को प्राप्त करने में कितना आगे जाता है, इसका निर्धारण इस बात से होगा कि यह कितने अच्छे ढंग से अपने बच्चों का पोषण करता है। चर्चा कीजिए। (250 शब्द)

सन्दर्भ: The Hindu 

निर्देशक शब्द:

चर्चा कीजिये- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय / मामले के विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए तथ्यों के साथ उत्तर लिखें।

उत्तर की संरचना:

परिचय:

कुपोषण एक व्यक्ति की ऊर्जा और / अथवा पोषक तत्वों के सेवन में कमियों, ज्यादतियों या असंतुलन को दर्शाता है। यह सर्वोच्च राष्ट्रीय प्राथमिकता बनाये जाने के रूप में भारत पर  अत्यधिक बोझ डालता है।

विषय वस्तु:  

गरीबी एवं कुपोषण के दुष्चक्र पर प्रकाश डालिए। कुछ सांख्यिकीय डेटा का उल्लेख कीजिए; राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस)-4 (2015-16) के अनुसार, पांच साल से कम उम्र के 35.7 फीसदी बच्चे अल्प-भार, 38.4 फीसदी बच्चे नाटे कद के एवं 21 फीसदी बच्चे कृशकाय हैं। 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों (कम उम्र के बच्चों) का संकेतक, बाल कुपोषण के लिए समग्र संकेतकों में से एक है।

भारत में बाल कुपोषण से सम्बंधित प्रमुख मुद्दों एवं समाज पर इसके पड़ने वाले प्रभावों पर प्रकाश डालिए।

देश के बिलियन प्लस सपने को पूरा करने में इसके महत्व पर प्रकाश डालिए।

निष्कर्ष:

इसके समाधान के उपाय बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

  

विषय: सा.अ.2-  स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधनों से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित विषय।

सा.अ.3- सूचना प्रौद्योगिकी के सम्बन्ध में जागरूकता।

5. महामारी के प्रभाव दिन-ब-दिन गंभीर होते जा रहे हैं, जिसकारण संचालन का माध्यम लागभग पूर्णरूप से ऑनलाइन हो गया है। इस संदर्भ में विश्लेषण कीजिए कि क्या इंटरनेट तक पहुंच एक विलासिता है अथवा एक अधिकार है? (250 शब्द)

सन्दर्भ: epw.in

निर्देशक शब्द:

 विश्लेषण कीजियेऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय / मामले के बहुआयामी सन्दर्भों जैसे क्या, क्यों, कैसे आदि पर ध्यान देते हुए उत्तर लेखन कीजिये।

 उत्तर की संरचना:

 परिचय:

प्रश्न की पृष्ठभूमि को संक्षेप में दर्शाते हुए उत्तर प्रारम्भ कीजिए।

 विषय वस्तु:

समझाइए कि दिन-ब-दिन महामारी के प्रभाव लगातार गंभीर होते जा रहे हैं, जिसकारण संचालन के ऑनलाइन मोड में लगभग पूर्णतः बदलाव आये हैं। हालांकि, इसने पहले से मौजूद असमानताओं को बढ़ाते हुए, देश में एक विशाल डिजिटल विभाजन का निर्माण किया है।

कोविड -19 और संबद्ध लॉकडाउन के सन्दर्भ में एक केस स्टडी प्रस्तुत कीजिए और समझाइए कि इसने प्रत्येक नागरिक को एक सही सेवा के रूप में इंटरनेट स्विच और एक्सेस करने के लिए कैसे मजबूर किया है।

डिजिटल रूप से समावेशी भारत के सपने को साकार करने के लिए, इंटरनेट को सार्वजनिक आय के रूप में और कम आय वाले घरों के लिए रियायती दरों पर प्रदान किया जाना चाहिए।

असमानताओं और निष्पक्षता के कारकों के साथ इंटरनेट के उपयोग के प्रभावों पर चर्चा कीजिए।

निष्कर्ष:

एक निष्पक्ष एवं संतुलित राय के साथ निष्कर्ष निकालिए।

 


सामान्य अध्ययन – 3


 

विषय: भारत में खाद्य प्रसंस्करण एवं संबंधित उद्योग- कार्यक्षेत्र एवं महत्त्व, स्थान, ऊपरी और नीचे की अपेक्षाएँ, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन।

6. देश में मधुमक्खी पालन क्षेत्र की संभावनाओं और चुनौतियों पर चर्चा कीजिए। इसकी पूर्ण क्षमता को विकसित करने के लिए क्या किया जाना चाहिए? समझाइए। (250 शब्द)

सन्दर्भ: The Hindu

 निर्देशक शब्द:

 चर्चा कीजिये- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय सम्बंधित विषय / मामले के विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखते हुए तथ्यों के साथ उत्तर लिखें।

समझाइये- ऐसे प्रश्नों के उत्तर देते समय प्रश्न से संबंधित सूचना अथवा जानकारी को सरल भाषा में प्रस्तुत कीजिये।

 उत्तर की संरचना:

 परिचय:

देश में मधुमक्खी पालन उद्योग की स्थिति को दर्शाने सम्बन्धी प्रमुख तथ्य प्रस्तुत कीजिए।

 विषय वस्तु:

इस उद्योग की क्षमता और उसके समक्ष चुनौतियों पर चर्चा कीजिए।

मधुमक्खी पालन के महत्व पर चर्चा कीजिए। मधुमक्खी पालन के प्रमुख लाभ हैं:

  • यह शहद प्रदान करता है, जो सबसे मूल्यवान पोषण भोजन है।
  • मधुमक्खी मोम प्रदान करती है, जिसका उपयोग कई उद्योगों में किया जाता है, जिसमें सौंदर्य प्रसाधन उद्योग, पॉलिशिंग उद्योग, दवा उद्योग आदि शामिल हैं।
  • परागण में एक उत्कृष्ट भूमिका निभाती है। शहद मधुमक्खी सबसे अच्छा परागण एजेंट हैं, जो कई फसलों की उपज को बढ़ाने में सहायता करते हैं।
  • हाल के अध्ययनों के अनुसार, मधु मक्खियों के जहर में प्रोटीन का मिश्रण होता है, जो संभावित रूप से एचआईवी को नष्ट करने के लिए एक रोगनिरोधी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस उद्योग के विकास के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयासों पर प्रकाश डालिए।

निष्कर्ष:

आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।

 


सामान्य अध्ययन – 4


 

विषय: नीतिशास्त्र आधारित केस स्टडी।

7. आप अपनी कार में ट्रैफिक में फंसे हुए हैं। आप कार चला रहे हैं। एक गरीब लड़की जो बहुत दुर्बल दिखाई दे रही है, आपकी ओर बढ़ती है और पैसे की याचना करती है। उसकी दुर्बलता को देखते हुए आप करुणावश दस रुपए के नोट की खोज के लिए अपना बटुआ निकालते हैं। वह लड़की, जो आपके बहुत पास खड़ी है, बटुआ छीनकर भागने लगती है। एक शख्स, जो मोटरबाइक पर है और इस हरकत को देखता है, वह उस लड़की को पकड़ लेता है और पब्लिक के सामने उसे पीटने लगता है। अब ट्रैफ़िक बढ़ रहा है और आपकी कार सड़क के बीच में है।

 ऐसी स्थिति में आप क्या करेंगे? और क्यों? (250 शब्द)

 उत्तर की संरचना:

 परिचय:

प्रश्न में मामले के सार को संक्षेप में प्रस्तुत कीजिए।

 विषय वस्तु:

समझाइए कि क्या कार्रवाई की जानी चाहिए?

कार पार्क करना- ताकि ट्रैफिक में कोई व्यवधान न हो।

जहाँ जा रहे हैं, उस गंतव्य पर कॉल करना एवं उन्हें आपातकाल से अवगत कराना, ताकि वे आपका इंतजार न करें।

उस स्थान पर पहुंचना, जहां वह व्यक्ति उस लड़की की पिटाई कर रहा है और उसे तुरंत रोकना और लड़की को न मारने या कानून को हाथ में नहीं लेने के लिए कहना। चोरी की सूचना देने और कार्रवाई करने के लिए उसे धन्यवाद देना, लेकिन उसे याद दिलाना कि लड़की बहुत छोटी है और वह भूख के कारण भी ऐसा कार्य कर सकती है। उसे याद दिलाना कि यह एक सार्वजनिक स्थान है और इस प्रकार की शारीरिक हिंसा, उसे कानूनी मुसीबत में डाल सकती है। इससे उसका गुस्सा कम हो जायेगा।

अगर लड़की घायल हो गई है तो कार में उपलब्ध बॉक्स से प्राथमिक उपचार करना। उसे कुछ खाने-पीने का सामान दिलवाना। उसकी पारिवारिक पृष्ठभूमि जानने की कोशिश करना  और फिर एनजीओ या चाइल्ड केयर सेंटर को सूचित करना और व्यक्तिगत रूप से उसे वहाँ ले जाना।

जिस एजेंसी को वह लड़की सौंपी गयी है, उनसे कभी-कभार उस लड़की के बारे में जानकारी प्राप्त करना।

(कृपया देखें कि ऐसे अनेक तरीके हैं, जिनके यह उत्तर लिखा जा सकता है)

निष्कर्ष:

आगे की राह बताते हुए निष्कर्ष निकालिए।


  • Join our Official Telegram Channel HERE for Motivation and Fast Updates
  • Subscribe to our YouTube Channel HERE to watch Motivational and New analysis videos