Print Friendly, PDF & Email

INSIGHTS करेंट अफेयर्स+ पीआईबी नोट्स [ DAILY CURRENT AFFAIRS + PIB Summary in HINDI ] 1 October

विषय- सूची

सामान्य अध्ययन-I

1. अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अपराधों पर एनसीआरबी की रिपोर्ट

 

सामान्य अध्ययन-II

1. अंबेडकर सोशल इनोवेशन एंड इनक्यूबेशन मिशन (ASIIM)

 

सामान्य अध्ययन-III

1. सरकारी उधारी (Government Borrowing) क्या है?

2. ज़ॉम्बी फायर (Zombie Fire) क्या है?

 

प्रारम्भिक परीक्षा हेतु तथ्य

1. प्राकृतिक चिकित्सा (Naturopathy) क्या है?

2. ब्रह्मोस मिसाइल

3. पावर ग्रिड

4. डीकार्बोनाइजेशनएंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा

5. उत्परिवर्तन क्या है?

 


सामान्य अध्ययन- I


 

विषय: भारतीय समाज की मुख्य विशेषताएँ, भारत की विविधता।

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अपराधों पर एनसीआरबी की रिपोर्ट


सन्दर्भ:

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) ने भारत में अपराध की वार्षिक रिपोर्ट– 2019 जारी की है।

प्रमुख निष्कर्ष:

  • अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) के सदस्यों के खिलाफ अपराधों में वृद्धि: 2018 के आंकड़ों की तुलना में 2019 में क्रमशः 7% और 26% से अधिक की वृद्धि हुई है।
  • 2018 की तुलना में मामलों के पंजीकरण में 1.6% की वृद्धि हुई।
  • 2019 में अनुसूचित जाति के खिलाफ सर्वाधिक अपराध उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए। राजस्थान और बिहार क्रमशः द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहे।
  • अनुसूचित जनजाति के खिलाफ सर्वाधिक अपराध मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए। इसके पश्चात राजस्थान और ओडिशा का स्थान था।
  • अनुसूचित जाति से संबंधित महिलाओं के बलात्कार के मामलों में राजस्थान सर्वोच्च स्थान पर रहा। इसके पश्चात् उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश का स्थान था।
  • जनजातीय महिलाओं के बलात्कार की सर्वाधिक घटनाएं मध्य प्रदेश में दर्ज की गईं।

महिलाओं के खिलाफ कुल अपराध:

2018 में 3,78,236 मामलों की तुलना में 2019 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल 4,05,861 मामले दर्ज किए गए, जो 7.3% की वृद्धि दर्शाता है।

साइबर अपराध:

2019 में 63.5% की वृद्धि हुई। इसमें से 60.4% साइबर अपराध के मामले धोखाधड़ी के मकसद के लिए थे। इसके अतिरिक्त 5.1% मामले यौन शोषण से सम्बंधित थे।

सर्वेक्षण की कमियां:

राष्ट्रमंडल मानवाधिकार पहल (CHRI), जो कि एक पुलिस सुधार समर्थक समूह है, ने कहा कि कुछ मामले अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के खिलाफ विशिष्ट भेदभावपूर्ण कार्रवाई के लिए दर्ज किए जा रहे हैं।

  • दर्ज मामलों का कम प्रतिशत इंगित करता है कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण अधिनियम), 1989 की धारा 3 के तहत अत्याचार के रूप में परिभाषित जाति और जनजातीय पहचान के आधार पर विशिष्ट भेदभावपूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाये जाने वाले बहुत कम मामले दर्ज किए जा रहे हैं।
  • ऐसे कृत्यों को मुख्य रूप से तब दर्ज किया जाता है, जब वे IPC में अन्तर्निहित किसी भी अपराध से सम्बंधित होते है।
  • इसके अलावा, अनुसूचित जातियों के खिलाफ अपराधों पर प्राप्त कुल शिकायतों पर कोई डेटा उपलब्ध नहीं है।

call_for_better

 प्रीलिम्स लिंक:

  1. NCRB क्या है? इसे कब स्थापित किया गया था?
  2. NCRB किस मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है?
  3. NCRB की रिपोर्ट
  4. उपर्युक्त रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष

 मेंस लिंक:

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के खिलाफ अपराधों में वृद्धि क्यों हो रही है? चर्चा कीजिए। उपयुक्त समाधान भी सुझाइये।

 स्रोत: द हिन्दू

 


सामान्य अध्ययन- II


 

विषय: केन्द्र एवं राज्यों द्वारा जनसंख्या के अति संवेदनशील वर्गों के लिये कल्याणकारी योजनाएँ और इन योजनाओं का कार्य-निष्पादन; इन अति संवेदनशील वर्गों की रक्षा एवं बेहतरी के लिये गठित तंत्र, विधि, संस्थान एवं निकाय।

अंबेडकर सोशल इनोवेशन एंड इनक्यूबेशन मिशन (ASIIM)


किसके द्वारा प्रारम्भ किया गया?

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के द्वारा

किसके तहत प्रारम्भ किया गया?

अनुसूचित जाति के लिए उद्यम पूंजी कोष (वेंचर कैपिटल फंड) के तहत

उद्देश्य:

  • दिव्यांगों को विशेष प्राथमिकता देते हुए अनुसूचित जाति के युवाओं के मध्य उद्यमशीलता को बढ़ावा देना;
  • वर्ष 2024 तक (1,000) नवोन्मेषी विचारों का समर्थन करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा स्थापित टेक्नोलॉजी बिज़नेस इन्क्यूबेटर्स (TBI) के साथ तालमेल स्थापित करते हुए काम करना;
  • उदार इक्विटी समर्थन प्रदान करते हुए स्टार्ट-अप विचारों का तब तक समर्थन करना जब तक कि वे वाणिज्यिक स्तर तक न पहुंच जाएँ; तथा
  • आत्मविश्वास के साथ नवाचार को उद्यमशीलता तक ले जाने के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करना।

लाभ:

  • अगले 4 वर्षों में विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में टेक्नोलॉजी बिज़नेस इन्क्यूबेटर्स (TBI) के माध्यम से स्टार्ट-अप विचारों के साथ 1,000 अनुसूचित जाति के युवाओं की पहचान की जाएगी।
  • उन्हें तीन वर्ष की अवधि के लिए इक्विटी के रूप में 30 लाख रूपये तक का वित्तपोषण उपलब्ध कराया जायेगा ताकि वे अपने स्टार्ट-अप विचारों को वाणिज्यिक उपक्रमों में परिवर्तित कर सकें।
  • सफल उपक्रम 5 करोड़ रूपये तक की उद्यम निधि प्राप्त करने के लिए पात्र होंगे, जिसे अनुसूचित जाति के लिए वेंचर कैपिटल फंड से प्रदान किया जायेगा।

ASIIM के तहत समर्थन प्राप्त करने के लिए योग्यता:

  • युवा, जिनकी पहचान विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा समर्थित टेक्नोलॉजी बिज़नेस इन्क्यूबेटर्स द्वारा की गई है।
  • प्रतिष्ठित निजी टेक्नोलॉजी बिज़नेस इन्क्यूबेटर्स द्वारा इन्क्यूबेशन के लिए चिन्हित युवा।
  • ऐसे छात्र, जिन्हें शिक्षा मंत्रालय द्वारा संचालित किए जा रहे स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अथवा स्मार्ट इंडिया हार्डवेयर हैकथॉन के तहत सम्मानित किया गया है।
  • टेक्नोलॉजी बिज़नेस इन्क्यूबेटर्स द्वारा चिह्नित नवोन्मेषी विचार, जो समाज के सामाजिक-आर्थिक विकास पर केंद्रित हैं।
  • सीएसआर कोष के माध्यम से कॉर्पोरेट्स द्वारा नामांकित और समर्थित स्टार्ट-अप्स।

अनुसूचित जाति के लिए उद्यम पूंजी कोष (वेंचर कैपिटल फंड) क्या है?

  • 2014-15 में सामाजिक न्याय मंत्रालय द्वारा प्रारम्भ किया गया था, जिसका उद्देश्य अनुसूचित जाति/ दिव्यांग युवाओं के मध्य उद्यमशीलता विकसित करना एवं उन्हें ‘रोजगार प्रदाता’ बनाना था।
  • इस कोष का उद्देश्य अनुसूचित जाति उद्यमियों की संस्थाओं को रियायती वित्त प्रदान करना है।

प्रीलिम्स लिंक:

  1. ASIIM के बारे में
  2. किसके द्वारा प्रारम्भ किया गया?
  3. उद्देश्य?
  4. कार्यान्वयन?
  5. अनुसूचित जाति के लिए उद्यम पूंजी कोष क्या है?

स्रोत: पीआईबी

 


सामान्य अध्ययन- III


 

विषय: सरकारी बजट

 सरकारी उधारी (Government Borrowing) क्या है?


समाचार में क्यों?

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाले COVID-19 संकट के कारण सरकार अपनी चालू व्यय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में 4.34 लाख करोड़ रुपये उधार लेगी।

 लक्ष्य क्या था?

केंद्र सरकार ने बजट 2020-21 में अनुमोदित 7.8 लाख करोड़ रुपये के स्थान पर उधार लक्ष्य को मई में संशोधित कर 12 लाख करोड़ रुपये कर दिया था।

 राजकोषीय घाटा लक्ष्य क्या है?

बजट में चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य 3.5 प्रतिशत निर्धारित किया गया था, जो पिछले वित्तीय वर्ष में निर्धारित जीडीपी के 3.8 प्रतिशत से कम था।

  • पिछले वित्तीय वर्ष में, सरकार को 2019-20 के बजट में निर्धारित राजकोषीय घाटे के 3.3 प्रतिशत के लक्ष्य से 3.8 प्रतिशत तक के विचलन के लिए राजकोषीय उत्तरदायित्व और बजट प्रबंधन (FRBM) अधिनियम में उल्लिखितएस्केप क्लॉज़” (Escape Clause) का सहारा लेना पड़ा था।

 एस्केप क्लॉज़ (Escape Clause) क्या है?

एस्केप क्लॉजसरकार को यह अनुमति देता है कि अर्थव्यवस्था में गंभीर तनाव की स्थिति (जिसमें संरचनात्मक परिवर्तन और वृद्धि दर में तेजी से गिरावट का समय शामिल हैं) में वह अपने राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को 0.5 प्रतिशत अंकों तक संशोधित कर सकती है।

 सरकारी उधारी क्या है?

उधारी, सरकार द्वारा लिया गया एक ऋण है, जो बजट दस्तावेज में पूंजीगत प्राप्तियों के अंतर्गत आता है।

सामान्यतः सरकार, सरकारी प्रतिभूतियों और ट्रेजरी बिल को जारी करके उधार लेती है।

 बढ़ी हुई सरकारी उधारी सरकार के वित्त को कैसे प्रभावित करती है?

सरकार के राजकोषीय घाटे के भारी बोझ का निर्माण उसके पिछले कर्ज पर देय ब्याज के कारण होता है।

  • यदि सरकार अनुमानित राशि से अधिक ऋण लेती है, तो इसकी ब्याज लागत भी अधिक होगी, जो अंततः राजकोषीय घाटे को प्रभावित करती है और सरकार के वित्त को हानि पहुंचाती है।
  • बड़े उधारी कार्यक्रम के कारण सार्वजनिक ऋण में वृद्धि होती है और विशेष रूप से ऐसे समय में जब जीडीपी की वृद्धि दर नियंत्रित हो तो यह एक उच्च ऋणजीडीपी अनुपात को दर्शाती है।

frbm_act

 प्रीलिम्स लिंक:

  1. सरकारी प्रतिभूतियों से आप क्या समझते हैं?
  2. ट्रेजरी बिल से आपका क्या तात्पर्य है?
  3. एफआरबीएम अधिनियम क्या है?

 मेंस लिंक:

बढ़ी हुई सरकारी उधारी सरकार के वित्त को कैसे प्रभावित करती है? चर्चा कीजिए।

 स्रोत: द हिंदू

 

विषय: संरक्षण से संबंधित मुद्दे

 ज़ॉम्बी फायर (Zombie Fire) क्या हैं?


समाचारों में क्यों?

जमे हुए टुंड्रा (Tundra) क्षेत्र में लगने वाली आग की घटनाओं के साथसाथज़ॉम्बी फायर (Zombie Fire) की घटनाओं में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

 ज़ॉम्बी फायर क्या है?

ज़ॉम्बी फायर आग का एक ऐसा स्वरुप है, जो भूमिगत रूप से जलती रहती है और फिर कुछ समय पश्चात् सतह पर उत्पन्न होती है।

 इससे सम्बंधित क्या चिंतायें हैं?

आर्कटिक क्षेत्र में आग उन क्षेत्रों में भी फैल रही है, जो पहले आग प्रतिरोधी क्षेत्र थे। आर्कटिक वृत्त के उत्तर में स्थित टुंड्रा क्षेत्र शुष्क होता जा रहा है और वहां की वनस्पति जैसे मॉस, घास, छोटी झाड़ियाँ आदि आग पकड़ने लगी हैं।

  • आग और रिकॉर्ड तापमान में कार्बन सिंक को कार्बन स्रोत में परिवर्तित करने एवं वैश्विक तापन में वृद्धि करने की क्षमता है।

 समय की मांग:

  • आर्कटिक क्षेत्र में विकसित होने वाली एवं तीव्रता से परिवर्तित होने वाली आग की प्रकृति को समझने की तत्काल आवश्यकता है।
  • इस मुद्दे को वैश्विक महत्व के मुद्दे के रूप में उठाए जाने की आवश्यकता है।
  • आग को नियंत्रित करने के लिए वैश्विक सहयोग, निवेश और कार्रवाई की आवश्यकता है।
  • इसके अतिरिक्त आर्कटिक क्षेत्र के स्थानीय लोगों से यह सीखने की आवश्यकता है कि आग का पारंपरिक उपयोग कैसे किया जाता था।
  • आर्कटिक क्षेत्र की रक्षा के लिए नवीन पर्माफ्रॉस्ट एवं जंगली क्षेत्रों में आग पर काबू पाने के लिए पीटसंवेदनशील दृष्टिकोण को अपनाने की भी आवश्यकता है।

 प्रीलिम्स लिंक:

  1. ज़ॉम्बी फायर क्या हैं?
  2. वे कैसे उत्पन्न होती हैं?
  3. टुंड्रा कहाँ है? टुंड्रा क्षेत्र की वनस्पति और जीव।
  4. आर्कटिक क्षेत्र।
  5. आर्कटिक वृत्त में स्थित देश।
  6. आर्कटिक परिषद क्या है?

 स्रोत: डाउन टू अर्थ

 


प्रारम्भिक परीक्षा हेतु तथ्य


प्राकृतिक चिकित्सा (Naturopathy) क्या है?

 प्राकृतिक चिकित्सा से तात्पर्य ‘प्राकृतिक रूप से उपचार करने की पद्धति’ से है। स्वस्थ आहार एवं सरल स्व-सहायता तकनीकों (उदाहरण के लिए; श्वास और विश्राम व्यायाम, लाभकारी जड़ी बूटियों और सामान्य व्यायाम) के संयोजन का उपयोग करके प्राकृतिक चिकित्सा शरीर की स्वयं को ठीक करने की क्षमता को बढ़ावा देने का प्रयास करती है।

  • प्राकृतिक चिकित्सक अधिकांशतः दीर्घकालिक रोगों का उपचार करते हैं। इसका उपयोग बार- बार होने वाले संक्रमण, दीर्घकालिक थकान, तनाव एवं इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के उपचार के लिए किया जाता है। यह एलर्जी, मांसपेशियों में पुराना दर्द एवं सामान्य रूप से पुरानी बीमारी के लिए भी उपयोगी है।

1945 में महात्मा गांधी द्वारा प्राकृतिक उपचार के लिए की गई प्रतिबद्धता के स्मरण में भारत सरकार द्वारा 18 नवंबर को प्राकृतिक चिकित्सा दिवस (Naturopathy Day) के रूप में घोषित किया है।

 ब्रह्मोस मिसाइल

समाचारों में क्यों?

हाल ही में सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया गया।

 प्रमुख बिंदु:

  • यह एक सतह से सतह पर मार करने वाली सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, जो स्वदेशी बूस्टर और एयरफ्रेम सेक्शन जैसी तकनीकों से लैस है।
  • यह ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना अधिक गति (2.8 मैक) पर उड़ान भरने में सक्षम है।
  • नई ब्रह्मोस मिसाइल पिन-पॉइंट सटीकता के साथ 400 किमी से अधिक दूरी पर स्थित लक्ष्यों को भेद सकती है।
  • इस मिसाइल को भारत और रूस द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया था और इसका प्रथम परीक्षण 2001 में किया गया था।

 पावर ग्रिड

 पावरग्रिड ने भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं, जो वर्ष 2020-21 से सम्बंधित लक्ष्यों के विवरण से सम्बंधित था।

  • समझौता ज्ञापन में वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान पावरग्रिड द्वारा पूरे किए जाने वाले विभिन्न मापदंडों जैसे वित्तीय, भौतिक, परियोजना निष्पादन आदि से संबंधित लक्ष्य शामिल हैं।

पावरग्रिड के बारे में:

  • यह एक महारत्न कंपनी है, जिसका मुख्यालय गुरुग्राम, भारत में स्थित है एवं यह मुख्य रूप से विद्युत् पारेषण (Transmission of Power) से सम्बंधित है।
  • इसे 23 अक्टूबर 1989 को कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत एक सार्वजनिक लिमिटेड कंपनी के रूप में निगमित किया गया था, जो भारत सरकार के पूर्ण स्वामित्व वाली एक कंपनी है।
  • पावरग्रिड अपने पारेषण नेटवर्क के माध्यम से भारत में उत्पन्न होने वाली कुल विद्युत् का लगभग 50% भाग पारेषित करती है।
  • पावरग्रिड, पावरटेल के नाम से एक टेलीकॉम व्यवसाय भी संचालित करती है।
  • निगम, केंद्रीय क्षेत्र की विद्युत् की निकासी के लिए पारेषण प्रणाली प्रदान करने के साथ- साथ क्षेत्रीय और राष्ट्रीय पावर ग्रिडों की स्थापना और संचालन के लिए भी उत्तरदायी है, जो कि सम्पूर्ण क्षेत्र में और उसके भीतर विद्युत् के संचरण की सुविधा प्रदान करता है।

डीकार्बोनाइजेशन एंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा

 भारत और नीदरलैंड ने “डीकार्बोनाइजेशन एंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा” पर एक स्टेटमेंट ऑफ इंटेंट (SoI) पर हस्ताक्षर किए हैं।

  • स्टेटमेंट ऑफ इंटेंट (SoI) अधिक स्वच्छ एवं अधिक ऊर्जा को समायोजित करने के लिए डीकार्बोनाइजेशन एंड एनर्जी ट्रांजिशन एजेंडा का समर्थन करता है।
  • इस साझेदारी का फोकस दोनों संस्थाओं की विशेषज्ञता का लाभ उठाकर नवीन तकनीकी समाधान (innovative technological solutions) तैयार करना है। इसे ज्ञान और सहयोगी गतिविधियों के आदान-प्रदान के माध्यम से प्राप्त किया जाएगा।

उत्परिवर्तन क्या है?

 उत्परिवर्तन, विषाणु का एक गुण है, जिसके अन्तर्गत वह अपनी संख्या में वृद्धि करते हुए परिवर्तन दर्शाता है। हालाँकि यह प्रतिकृति उत्पन्न करता है लेकिन इसकी प्रतिकृतियां सटीक रूप से समान नहीं होती हैं। इसके परिणामस्वरूप इसके नवीन रूपों (स्ट्रेन) का उदय होता है, जो अधिक अथवा कम प्रभावी हो सकते हैं। कुछ स्ट्रेन मर जाते हैं, जबकि अधिक प्रभावी स्ट्रेन, जो कुशलता से फैलते हैं, जीवित रहते हैं।

समाचारों में क्यों?

कोरोनोवायरस SARS-CoV-2 लगातार उत्परिवर्तन कर रहा है। अब तक इसके 12,000 उत्परिवर्तन प्रलेखित किए जा चुके हैं।

 

नोट: आज की समसामयिकी के कुछ लेख कल कवर किए जाएंगे।


  • Join our Official Telegram Channel HERE for Motivation and Fast Updates
  • Subscribe to our YouTube Channel HERE to watch Motivational and New analysis videos