Print Friendly, PDF & Email

[HINDI MEDIUM] Insights Secure – 2015: Questions on Current Events, 25 March 2015

Archives – Hindi

Archives – English

Translated By: Praveen Kurre

If facing problem in loading of Disqus Comments, please clear Cache and Cookies in your Browserand then reload the page. This will solve the problem. Alternatively you can open the page in‘incognito/safe browsing mode‘. 

Please Check This Article for Latest Update and New Initiative and its Time Table !

Wish You All The Best!

                                                                25-03-2015

.General Studies – 1

सिलेबस :-The Freedom Struggle – its various stages and important contributors /contributions from different parts of the country. 

1) गांधीजी के वकालत करने के माध्यम से ‘रचनात्मक कार्य ‘ करने जिसका अर्थ था – सविनय अवज्ञा आंदोलन के अगले चरण के जन संघर्ष के लिए लाखों लोगों के समर्थन जुटाने को मजबूत आधार प्रदान करना| इस सम्बन्ध में जवाहर लाल नेहरू की प्रतिक्रिया का आलोचनात्मक विश्लेषण कीजिये| (200 शब्द)

सन्दर्भ :-भारत का स्वतंत्रता संघर्ष –विपिन चंद्रा , अध्याय—25

 

सिलेबस :- The Freedom Struggle – its various stages and important contributors /contributions from different parts of the country.

2) 1930 के मध्य दशक के दौरान कांग्रेस पार्टी की रणनीति का एक आधारभूत पक्ष यह था कि राष्ट्रीय आन्दोलन के सामूहिक जन-संघर्ष का दौर जब शांत हो जाता था, तब भी सामूहिक राजनितिक गतिविधियाँ और जनता को लामबंद करने का कम चलता रहता था , जबकि यह कम क़ानूनी ढांचे के भीतर ही किया जाता था| क्या कांग्रेस की सरकारें अपनी इस रणनीति के साथ न्याय कर सके ? आलोचनात्मक परीक्षण कीजिये (200 शब्द)

सन्दर्भ :-भारत का स्वतंत्रता संघर्ष –विपिन चंद्रा , अध्याय—26

 

सिलेबस :-  The Freedom Struggle – its various stages and important contributors /contributions from different parts of the country. 

3)1930 के दशक के दौरान भारतीय किसान आंदोलनों के उद्भव ने सविनय अवज्ञा आंदोलन में क्या योगदान दिया ? आलोचनात्मक चर्चा करें। (200 शब्द)

सन्दर्भ :- भारत का स्वतंत्रता संघर्ष –विपिन चंद्रा , अध्याय—27

 

सिलेबस :-  History of the world

4)यह कहा जाता है कि दुनिया के विभिन्न भागों में यहूदी विरोधी भावना बढ़ रही है । आप यहूदी विरोधी भावना से क्या समझते हैं? आधुनिक दुनिया में इस प्रकार की भावना की प्रकृति और इस भावना में वृद्धि के कारणों की आलोचनात्मक परीक्षण कीजिये | (200 शब्द)

सन्दर्भ :-The New York Times

 

सिलेबस :- communalism & secularism.

5)”धर्मांतरण पर कोई भी प्रतिबंध भले ही वह सामाजिक तनाव या जनसांख्यिकी या राष्ट्रीय चरित्र को बदलने के लिए ही हो , यदि उसे रोका गया तो वह धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का गंभीर उल्लंघन माना जायेगा ।” आलोचनात्मक टिप्पणी कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :-The Hindu

 

सिलेबस :-  Social empowerment; Role of women and women’s organization

6) महिलाओं के सशक्तिकरण और इसके कार्यान्वयन में चुनौतियों में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संकल्प 1325 के महत्व का आलोचनात्मक विश्लेषण कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :- The Indian Express

 

सिलेबस :- Urbanisation – problems and remedies; Paper – 2 (Welfare schemes)

7)”मलिन बस्तियों के आकार में वृद्धि की समस्या बढ़ती जा रही है इसे बस सरकार के बढ़ते खर्च के माध्यम से रियायती दर पर आवास दिए जाने की तुलना में आवश्यक आवास की मांग अंतराल के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए बल्कि इसे मूल्य नियंत्रण के प्रभाव की रोशनी में देखा जाना चाहिए।” शहरी गरीबों को किफायती आवास उपलब्ध कराने की दिशा में सरकार के दृष्टिकोण क्या होना चाहिए ? विस्तार से समझाइए और सुझाव भी दीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :-Livemint

 

सिलेबस :-communalism, regionalism & secularism.

8)”पाकिस्तान का इतिहास इस तथ्य का वसीयतनामा है कि क्षेत्रीय तर्ज पर विभाजित विभिन्न धार्मिक लोगों को धर्म एक साथ बांध कर नहीं रख सकती।” आलोचनात्मक विश्लेषण कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :- Livemint

 

General Studies – 2

सिलेबस :- Indian Constitution- features, amendments, significant provisions and basic structure.

9)भारत के उच्चतम न्यायालय ने अभी हाल ही में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) की धारा 66A को क्यों असंवैधानिक करार दिया है ? इस फैसले के संवैधानिक और वाणिज्यिक प्रभाव की जांच कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :-

The Hindu

Business Standard

The Hindu

 

सिलेबस :-  transparency & accountability and institutional and other measures.

1०) क्या आपको ऐसा लगता है कि भारत में राजनीतिक दलों को सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत लाया जाना चाहिए और उसे सरकारी संपत्ति के रूप में व्यवहार किया जाना चाहिए ? पुष्टि कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :- The Hindu

 

General Studies – 3

सिलेबस :-Infrastructure; Land reforms

11)” क्या भूमि अधिग्रहण की समस्या को अप्रयुक्त भूमि का उद्धार, पूरक आदानों की इष्टतम संरेखण, और प्रौद्योगिकी के द्वारा सहायता प्राप्त सामाजिक जिम्मेदारी के ईमानदार निर्वहन सहित देश के कुशल उपयोग रूप में सुधार करने की जरूरत है।” भूमि अधिग्रहण और उसकी चुनौतियों पर चल रही बहस के प्रकाश में उपरोक्त कथन पर आलोचनात्मक टिप्पणी कीजिये । (200 शब्द)

सन्दर्भ :-Livemint

 

General Studies – 4

सिलेबस : Utilization of public funds, challenges of corruption.

12) के आपको लगता है कि सार्वजनिक कार्यालयों में भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने से भ्रष्टाचार कम हो जाएगा ? भ्रष्टाचार के लिए निवारक के रूप में कठोर सजा के गुण और दोषों का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिये । (150 शब्द)

सन्दर्भ :- The Hindu